सिंगापुर के विशेषज्ञों ने एमएसएमई इकाइयों को दिये उत्पाद और निर्यात बढ़ाने के टिप्स

नेशनल यूनिवर्सिटी आफ सिंगापुर की ओर से एमएसएमई इकाइयों के साथ हुआ संवाद
कुमाऊं जनसंदेश डेस्क
रुद्रपुर।
प्रदेश में लघु एवं सूक्ष्म औद्योगिक इकाइयों के उत्पादन व मुनाफे में अब और बढ़ोत्तरी हो सकेगी। सिंगापुर से आए विशेषज्ञ दल ने एमएसएमई इकाइयों के प्रतिनिधियों को उत्पादकता व क्षमता वृद्धि के साथ ही निर्यात को बढ़ावा देकर लाभ कमाने के टिप्स दिये। इस कार्यशाला के बाद नए लघु व सूक्ष्म उद्यमों की स्थापना की संभावना भी बढ़ गई है। इस दौरान तैयार की गयी रिपोर्ट को राज्य सरकार को भेजा जाएगा, जिससे सरकार उद्यमियों को और बेहतर सुविधा देने का प्रयास करेगी।
मंगलवार को जिला उद्योग केंद्र सभागार रुद्रपुर में नेशनल यूनिवर्सिटी आफ सिंगापुर की ओर से एमएसएमई इकाइयों के साथ संवाद किया गया। इस दौरान सिंगापुर से आए विशषज्ञों जिज्ञासा शर्मा व मेलिसा ने पर्यटन एवं सेवा क्षेत्र, आटो मोबाइल, आटो सेक्टर, फार्मा, रबड़, प्लास्टिक, टेक्सटाइल केे क्षेत्र में कार्य कर रही इकाइयों के प्रतिनिधियों से बातचीत की और उनसे अब तक किये गए कार्यो के बारे में जानकारी ली। साथ ही बताया कि वे किस तरह से अपने उत्पाद को और बेहतर बना सकते हैं। उत्पादकता व क्षमता बढ़ाने के साथ ही विदेशों से कैसे अधिक डिमांड ली जा सकती है, इसके बारे में भी सुझाव दिये गए। इस दौरान लघु व सूक्ष्म उद्यमों के समक्ष आने वाली दिक्कतों, चुनौतियों एवं संभावनाओं से जुड़ी प्रश्नोत्तरी भी तैयार की गयी। इस दौरान उद्यमियों की जिज्ञासाओं का भी समाधान किया गया। बता दें कि नेशनल यूनिवर्सिटी आफ सिंगापुर एशिया में प्रथम स्थान पर है और वैश्विक रूप से यह बारहवां संस्थान है। यूनिवर्सिटी के साथ राज्य सरकार ने एमएसएमई इकाइयों को बढ़ावा देने के लिए करार किया हुआ है। इसकी अध्ययन रिपोर्ट राज्य सरकार को भेजी जाएगी। कार्यशाला के दौरान उप निदेशक उद्योग अनुपप द्विवेदी, केजीसीसीआइ्र अध्यक्ष अशोक बंसल, जिला उद्योग केंद्र महा प्रबंधक चम्पावत मीरा बोहरा, उद्यमसिंहनगर जिला उद्योग केंद्र महाप्रबंधक चंचल सिंह बोहरा, प्रबंधक सुनील कुमार पंत समेत जिलेभर के तमाम उद्यमी मौजूद थे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.