ऊहापोह में प्रदेश के हजारों छात्र-छात्राएं, पोर्टल में तकनीकी खामी, कैसे लें छात्रवृत्ति का लाभ

31 जनवरी हैै अंतिम तिथि

गुडडू रजवार
हल्द्वानी। शिक्षा और समाज कल्याण विभाग अधिकारियों की लापरवाही हजारों छात्र-छात्राओं के भविष्य पर भारी पड़ती नजर आ रही है। स्कूलों का पोर्टल में नाम न होने से छात्रों को छात्रवृत्ति से वंचित होना पड़ रहा है। जबकि पोर्टल पर आवेदन की अंतिम तिथि 31 जनवरी है। अफसर पोर्टल में तकनीकी खामी को वजह बता रहे हैं मगर समय रहते खामी को दूर न करना उनकी लापरवाही को उजागर कर रहा है।
यहां बता दें कि सरकार ने वर्तमान वर्ष से सभी प्रकार की छात्रवृत्ति के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया प्रारंभ की है। इसके तहत प्री मैट्रिक, पोस्ट मैट्रिक, उच्च शिक्षा व तकनीकी शिक्षा के छात्र-छात्राओं को स्कॉलरशिप डॉट जीओवी डाट इन पोर्टल पर रजिस्टर कर आवेदन करने थे। मगर शिक्षा विभाग व समाज कल्याण विभाग की लापरवाही के चलते प्रदेश के कई विद्यालयों को पोर्टल पर रजिस्टर ही नहीं किया जा सका है। इससे हजारों छात्र-छात्रायें छात्रवृत्ति के लिए आवेदन ही नहीं कर पा रहे हैं। जबकि पोर्टल पर आवेदन की अंतिम तिथि 31 जनवरी है।
जनपद के दूरस्थ क्षेत्रों में सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त कॉमन सर्विस सेंटर छात्र-छात्राओं को छात्रवृत्ति आवेदन करने में मदद कर पा रहे हैं, लेकिन स्कूलों का नाम पोर्टल में न होने से वे भी असमंजस में हैं। कॉमन सर्विस सेंटर गजार कसियालेख के संचालक अर्जुन सिंह बिष्ट ने बताया कि हमारे सेंटर में रोजाना 70 से 80 छात्र-छात्रायें छात्रवृति के लिए आवेदन करने आ रहे हैं किन्तु कई छात्र-छात्राओं को बिना आवेदन के ही वापस करना पड़ रहा है, जिसका मुख्य कारण विद्यालयों का पोर्टल में रजिस्टर न होना है। बताया कि स्कूल की ओर से भी बच्चों को फीस से सम्बंधित जानकारी नहीं दी गयी है ऐसे में फीस के कॉलम में कितनी धनराशि भरी जाए यह भी एक पहेली ही बना हुआ है। वहीं डा. सुशीला तिवारी राजकीय कन्या इंटर कालेज भटेलिया की कई छात्राओं ने बताया कि वे विगत एक सप्ताह से छात्रवृत्ति हेतु आवेदन करने के लिए भटक रही हैं, किन्तु विद्यायल का नाम पोर्टल में नहीं होने के कारण आवेदन नहीं कर पा रहे हैं। 31 जनवरी को आवेदन करने की आखिरी तिथि है। लगता है कि इस वर्ष छात्रवृति से वंचित ही रहना पड़ेगा।
डुंगर सिंह बिष्ट आगर इंटर कालेज टांडी पोखराड़, राजकीय इंटर कालेज धानाचूली, राजकीय इंटर कालेज सुन्दरखाल आदि जैसे कई और विद्यालय हैं जिनका नाम ही पोर्टल में नहीं है, जिसके चलते बच्चों को छात्रवृत्ति आवेदन करने के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है।

तकनीकी खामी के चलते हो रही दिक्कत : गौतम
हल्द्वानी। इस सम्बंध में जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक एचएल गौतम ने बताया कि तकनीकी खामी के चलते इस तरह की दिक्कत आई है। इस बारे में निदेशालय के साथ ही समाज कल्याण विभाग को भी अवगत करा दिया गया है। मुख्यालय से ही तिथि बढ़ाने के सम्बंध मेें निर्णय लिया जाएगा। समाधान के प्रयास हो रहे हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published.